अरदास( एक छंद)'s image
Share1 Bookmarks 45461 Reads1 Likes
मेरी लेखनी, मेरी कविता 
अरदास (एक छंद)

एै हवा !एै घटा !
दूर जा तो सही।

मेरी प्रियतम का संदेशा सुना तो सही।।

 तन से वो दूर है ,
है ,मेरे मन में बसी।
लाके मुझको

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts