आग सीने में लगा कर सोया कर( कविता)'s image
103K

आग सीने में लगा कर सोया कर( कविता)

मेरी लेखनी मेरी कविता
आग सीने में लगा कर सोया कर
(कविता )

हर नक्श जहन से
 मिटा कर सोया कर ,
तू ये सारी दुनियाँ
 भुला कर सोया कर।।

क्या खोया क्या पाया
 क्या ढूंढ रहा है ,
तू सब कुछ खुदा को
 बता कर सोया कर,
हर  नक्स जहन से
 मिटा कर सोया कर।।

नींद भले कितनी ही
गहरी हो जाए  ,
पर तू ख्वाबों को
जगा कर सोया कर,
हर नक्श जहन से
 मिटा कर सोया क।।

मखमली एहसास
 तुझे सोने नहीं देगा
जमीन पर बिस्तर
 
Read More! Earn More! Learn More!