स्वयं से प्रेम's image
80K

स्वयं से प्रेम

#अंतरराष्ट्रीय_महिला_दिवस 

तो क्या हुआ जो तुम्हें 
नहीं मिली सीढियां ।
तुम उचक कर अपने पंजों पर
कर लो पार तुम्हारे चारों तरफ खींची गई दीवारें ।

तो क्या हुआ जो मंज़िल 
धुंधला रही है अभी
तुम खाली कर दो आंखों को
आंसुओं से
और भर दो उनमें सुनहरे सपने ।

Tag: प्रेम और2 अन्य
Read More! Earn More! Learn More!