ढूंढ रही हूं's image
94K

ढूंढ रही हूं

हां ढूंढ रही हूं आजादी

आज देश भले आजाद है

पर नारी आज भी पुरुषों के बाद है

हां ढूंढ रही हूं


पहुंच गई है कल्पना चांद पर

पर हकीकत में आज भी हूं जमीं पर

मगर भरोसा है मुझे अपने आप पर

ढूंढ रही हूं

देखती हूं स्वप्न खुली आंखों के तले

बूढ़े मां बाप की उम्मीदों को रखने जिंदा

रोशन हो कैसे मेरा ये जहान

जहां घर से निकलना दुश्वार है

सरेराह लूट जाती है इज्जत मेरी

मूकदर्शक बने खड़े है सब

क्योंकि मै उनकी बेटी नही हूं

ना उनकी बहन हूं ना उनके परिवार की हूं

आखिर क्यों करे वो मदद मेरी

मगर फ़िर भी बेशर्म लोगों के ताने तैयार हैं

ये कैसे संस्कार है इस

Read More! Earn More! Learn More!