विसर्जित कर दो न!'s image
Poetry2 min read

विसर्जित कर दो न!

Gautam KumarGautam Kumar May 15, 2022
Share0 Bookmarks 64635 Reads0 Likes

हठ दावानल सा फैल रहा, अब हाथ हमारे जख्मी हैं,

जुगनू के अनगिन शूरवीर, अब साथ हमारे जख्मी हैं

सागर में उठी तरंगों को, अब शांत कराना मुश्किल है

उद्दंड नदी रस्ता भूली, उद्गम तक लाना मुश्किल है


कुछ कच्चे पक्के दोस्त कहीं, अब अंतिम बार बुलाएंगे

कुछ स्याह स्वप्न में डूबेंगे, कुछ इंद्र धनुष बन जायेंगे

तुम अंतिम बार ज़िंदगी को, पीड़ाएँ अर्पित कर दो न!

जीवन का सारा भय, गठरी में बाँध विसर्जित कर दो न!


No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts