तू आये....'s image
Share0 Bookmarks 64609 Reads0 Likes
तू आये तो सवेरा हो जाये, अन्धेरे में उजाला हो जाये,
साँसें मेरी दम तोड़ रही थी, मेरे जी में जान आ जाये

दिन लागे बहुत लम्बे , और रातें डरावनी, कटते ना कटे,
जिनमें तू है उन सपनों के लिये दिन में भी नींद आ जाये 

सूखेमें बहारें उजड़ीं थीं, सहरामें गुल-ओ-गुलिस्ताँ खिल जाये, 
भीड़में मैं हो गया था अकेला, अकेलेसे ही मह

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts