मैं और मैं's image
Share0 Bookmarks 12261 Reads0 Likes

मैं हूं दरिया, मैं ही हूं कश्ती।

मैं ही साहिल और मौजभी। 

कैसे बचाऊंगा कश्ती ए नाजूक को।

अपनी अपने भीतरके तूफानौसे। 


यह तूफान नहीं है बस में मेरे । 

बेवजह उछलता है बारबार मचलता है।

बाह्र-ए-अमीक-ए-इष्क का तैझ।

हर वक्त मुझे मिटाये जा रहा है।

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts