संदेश's image
Share0 Bookmarks 63965 Reads0 Likes
ये सब जो व्याप्त है पर्याप्त है ,
कभी थमा नहीं था बेचैनी,
जो बिमारी है सब भ्रांत है,
कर्ता कौन ? कर्म किसके हाथ है?

शरीरों से गिनता अपना प्राण है,
कितना सुलभ मेहनतकश राज है,
अनुभव से बढ

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts