मेरे विचार में क्रांति's image
Poetry1 min read

मेरे विचार में क्रांति

गणेश मिश्रागणेश मिश्रा January 7, 2023
Share0 Bookmarks 62674 Reads0 Likes
दहकता आग है जो उसे वो लौ कहते थे ,
विषय अज्ञान छानते थे ,
खूब समझते बूझते थे वो ,
ये प्रतीत है काफी अतीत है ,

उनके अनुसार आकार अलग था जगत का ,
आसमान मिल जाता था वो ठुकरा देते थे ,
ना ऊंचाई से संपर्क था और ना गहराई से ,

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts