भाषा's image
Share0 Bookmarks 63028 Reads0 Likes
भाषा खोने से डरता हूं , भाषा का मूल समझता हूं ,
सुक्ष्मता इस भाषा में है , निजी भाषा निज पाषाण से है,
भाषा धारणा बनाता है , समझ - बूझ जगाता है ,
संत समागम , गंगा , तिरंगा , निज भाषा से आता है।

भाषाएं भाई- जन बनाते हैं , मित्रता प्रेम फैलाते हैं ,
भाषा से जिसको गैर न

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts