कुछ तुम कहो...'s image
95K

कुछ तुम कहो...

चलो आज आपके हर लफ़्ज़, हर अल्फ़ाज़ सुनते हैं

आपके साथ बिताए गुज़रे लम्हों को यादों में बुनते हैं..

इन आँखों में बसे ख़्वाब सैल-ए-अश्क़ में बह न जाएं

चलो सबसे पहले आँखों में बिख़रे हुए सपने चुनते हैं..

उजड़ी हुई गुलिस्तान ए ज़िंदगी को सँवारने के लिए

चल आ इस छोटे शहर म

Tag: नज़्म और2 अन्य
Read More! Earn More! Learn More!