विश्वास's image


क्यों मुश्किलों की धूप में तिल तिल जलूँ

जब मेरे भीतर साहस के असंख्य सूर्य हैं छिपे l

क्यों प्रतिफल की परवाह कर किनारे पर रहूँ

जब मेरे भीतर प्रयासों के अथाह समंदर हैं भरे l

क्यों निराधार

Read More! Earn More! Learn More!