उफ़! यह तपिश's image
101K

उफ़! यह तपिश

उठ – उठाकर देखो, अनेक रंगों सी

यह तपिश..

एक दूसरे से बैर कराती, पैर जलाती

यह तपिश..

शांत मन को जैसे, बेचैन करती

यह तपिश..

पंख लगे अरमानो को, मुरझा देती

यह तपिश..

कमजोरों पे रौब

Tag: poetry और1 अन्य
Read More! Earn More! Learn More!