क्यों दुसरों के भरोसे बैठे रहते हो तुम's image
Poetry1 min read

क्यों दुसरों के भरोसे बैठे रहते हो तुम

Devender KumarDevender Kumar April 12, 2023
Share0 Bookmarks 58309 Reads2 Likes

क्यों दुसरों के भरोसे बैठे रहते हो तुम 

क्यों सदियों से तिरस्कृत जीवन जीते हो तुम 

क्यों दुसरों के नियमों का बोझ ढोते हो तुम 

क्यों बार बार झुकते हो तुम ।

बनी है सम्यता तुमसे 

बने है समाज तुमसे 

बने है सृजक सृजनकार तुमसे 

बनी है यह धरा उर्वर तुमसे 

क्यों भारत पाकिस्तान हो जाते हो तुम 

क्यों हिन्दु मुसलमान हो जाते हो तुम 

क्यों अपनी खाल में भेड़िये छुपाते

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts