तुम सा बेहतर कोई नहीं सकल जीवन संसार में's image
99K

तुम सा बेहतर कोई नहीं सकल जीवन संसार में

तुमसे बेहतर कोई नहीं सकल जीवन संसार में


जब बनाया होगा तुमको उस परवरदीगार ने

फुरसत से सजाया होगा तुमको बैठकर विस्तार में

क्या खूब बनाया है तुमको इस विस्तृत आकार में तुमसे बेहतर कोई नहीं सकल जीवन संसार में


जब तुमको देखा था मैंने पहली रोज बाहर से

घर के अंदर देख रहा था बालों को तुम्हे संवारते

दिल आ गया देख कर तुमको इस अंदाज में

तुमसे बेहतर कोई नहीं सकल जीवन संसार में


मां ने तो पूछा होगा क्यूं इतनी गुमसुम रहती हो

रोती हो छुप छुप कर पर हमसे क्यों कुछ न कहती हो

मेरे लिए रोना तुम्हारा उचित नहीं है प्यार में

तुमसे बेहतर कोई नहीं सकल जीवन संसार मे


मेरे दिए उस झुमके को तुमने पहनकर खनकाय

Read More! Earn More! Learn More!