ऊष्मा's image
Share0 Bookmarks 40878 Reads0 Likes

ऊष्मा


हो गई जो बूंद वाष्पित तब


उस पर रश्मि ताप आरोपित जब


गए पहर बीत आप ही आप


पार हुआ न क्षितिज, शिथिल ताप


रात्रिकाल पहर पार, पुनः बूंद

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts