मेरे आशियां के टुकड़े's image
00

मेरे आशियां के टुकड़े

मतलबी दौर की इस दुनिया में,
होके बर्बाद हम भी बिखरे हैं,
जो भी शाईस्तगी बची है कुछ
वो मेरी फ़र्दियत के चिथड़े हैं ।

कामयाबी के दौर में साहब
कसीदे पढ़ते जो न थकते थे
जो मेरे रोज जाना महफिल थे
वो भी सब दोस्त-यार बिछुड़े हैं ।

वक्त कितना खराब हो क्यूं ना,
आसरा हो तो कट
Tag: वक्त और1 अन्य
Read More! Earn More! Learn More!