ग़ज़ल's image
Share1 Bookmarks 62616 Reads2 Likes
वो बिछडा तो दस्त से रंग-ए-हिनाई ले जाएगा,
लबों का तबस्सुम आँखों से बीनाई ले जाएगा!!

फिर ना लौटेगा कभी मौसम-ए-गुल मेरे लिए,
वो तो गुल से खूश्बू बागों से रानाई ले जाएगा!!

उसके बग़ैर युँ ही भटकती फिरेगी खुशी दर-बदर,
मेरे ख्वाब भी सारे पलकों से हरजाई ले जाएगा!

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts