कैसी हया , कैसी शरम!'s image
Poetry1 min read

कैसी हया , कैसी शरम!

Bheem RaoBheem Rao February 12, 2023
Share0 Bookmarks 64354 Reads1 Likes
कैसी हया , कैसी शरम, 
कैसा है रंग, कैसा है ढंग, 
ये दुनिया तो बस करती है तंग 

जीने न दे इनकी जबां, 
सब पर ही थोपें ये अपनी पसंद, 
देते हैं ताने ये आये दिन , 

 कैसी हया , कैसी शरम, 
कैसा है रंग, कैसा है ढंग, 
ये दुनिया तो बस करती है तंग

हर जगह ये बैठे हैं, 
काटने हमारी पतंग, 
हो मन में उमंग, 
तो लड़ लेंगे हम इनसे भी

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts