बिना मेरे गृहयुद्ध में अस्तित्व

  अवलोकन क्या है's image
100K

बिना मेरे गृहयुद्ध में अस्तित्व   अवलोकन क्या है


यह बाहर गृहयुद्ध दिख रहा 
यह समस्त मानव के 
घर-घर की घृणा ,
जो आज बारूद बन कर 
 देश विदेशों के बीच में दिख रही 
न जाने कितने मासूम 
बली चढ़ गए ,
घृणा के vibration जाते हैं
स्वयं के भीतर की कड़वाहट से
आपसी संबंधों के कड़वाहट से 
छोटी-छोटी बात पर बनी गांठ से 
यह वही घर की घृणा जो जातिवाद 
में दिख रही ,
यह वही घृणा जो एक मां के
 लाल के हाथों दूसरे मां के
 लाल को मौत के घाट उतार रही
यह वही घर घर की घृणा जो 
आज आतंकवादी के रूप में दिख रही
यह वही घृणा है जो हर देश के
सरहद पर तैनात ,
यह आपसी देशों में युद्ध करके
 क्या घृणा का अंत हो जाएगा
नहीं ऐसा करने से घृणा
&nb
Read More! Earn More! Learn More!