पतंग हमारी's image
77K

पतंग हमारी

पतंग हमारी कितनी प्यारी

जीवन के रंग समेटे सारी

डोर सजनी तेरे हाथों में

उड़ाना जरा संभाल के

छूट न जाए कहीं डोर तेरे हाथ से

यूं ही उड़ता रहे पतंग हमारा अभिमान से

छूना है इसे आसमान कविता हमारे प्यार में


सजना पतंग हमारी<

Read More! Earn More! Learn More!