बहू's image
Share0 Bookmarks 12399 Reads1 Likes


बेटी जैसी बहु है आई, 

सबके मन को बहुत है भाई, 


सास-ससुर के आंख का तारा, 

बनी बुढ़ापे का है सहारा, 


बहू मेरी खुशियों की चाभी, 

दोस्त बनी हैं ननद और भाभी,


ऐसे उसके हैं संस्कार, 

जेठ-जे

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts