किसी सीने पे आहट दी, किसी काँधे पे सर रक्खा's image
271K

किसी सीने पे आहट दी, किसी काँधे पे सर रक्खा

किसी सीने पे आहट दी, किसी काँधे पे सर रक्खा

हुए कितने भी बेपरवाह मगर बस एक घर रक्खा


ज़माने ने ये साजिश की, किसी के हम न हो पाएं

ख़ुदी पे आशना लेकिन हमीं ने हर पहर रक्खा 


वो चलता है तो अक्सर आदतन ग़म भूल जाता है

यह

Tag: poetry और2 अन्य
Read More! Earn More! Learn More!