ज़मीर's image
Share0 Bookmarks 63074 Reads0 Likes
तूने मशवरा मांगा, या अनजान बन तफ़्तीश की
नादाँ अब न मैं रहा,जानता हूँ किस बात की तस्दीक की।
नावाकिफ़ नहीं तुझसे कोई,तू आफ़ताब है मशरिक़ का
कितनी बार कोई ख़ुद को साबित करे,कोई मोल है ज़मीर का।

<

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts