रात की बात's image
99K

रात की बात

उफ़्फ़ ये अंधेरी रात, ये टिमटिमाते तारे
दिन के सारे राज़, समेटे ख़ुद में बेचारे
कल फिर सहर क
Read More! Earn More! Learn More!