अब मेरे हालात देख कर तमाशाई इतरा रहे हैं's image
96K

अब मेरे हालात देख कर तमाशाई इतरा रहे हैं

उसकी मौजूदगी जब दिल में थी तो बहुत इतराते थे हम
अब मेरे हालात देख कर तमाशाई इतरा रहे हैं 

अटके हुए हैं हम भी किसी के इंतजार में
और वो हैं जो झूठे वादे और कसमें खा रहे हैं

क्यों हर बार वो बिछड़ने की बात हमसे करते हैं
Tag: poetry और5 अन्य
Read More! Earn More! Learn More!