असंभव से संभव तक's image
96K

असंभव से संभव तक

असंभव से संभव तक

क्यों बैठा है सहम कर

क्याक्यों बैठा है सहम कर

क्या हार से डरता है,

क्या बिना लड़े ही अपनी

हार स्वीकार करता है।

राह की मुश्किलों से

क्यों चलने से डरता है,

कौन आज तक अपने

प्रगति में व्यवधान करता है।

Read More! Earn More! Learn More!