बाल साहित्य के प्रति सरकार का विमर्श -चिंतन ही नहीं, क्रियान्वयन आवश्यक"'s image
Article11 min read

बाल साहित्य के प्रति सरकार का विमर्श -चिंतन ही नहीं, क्रियान्वयन आवश्यक"

ashri0910ashri0910 February 8, 2023
Share0 Bookmarks 65448 Reads2 Likes

"बाल साहित्य के प्रति सरकार का विमर्श -चिंतन ही नहीं, क्रियान्वयन आवश्यक"



24 मार्च 2022 वैश्विक हिंदी सम्मेलन की अनुशंसा के अनुपालन में आयोजित अंतरराष्ट्रीय संगोष्ठी में " साहित्यिक पत्र-पत्रिकाओं में बाल साहित्य की वर्तमान स्थिति " पर चर्चा- विमर्श का आयोजन हुआ" कॉन्स्टिट्यूशन क्लब ऑफ इंडिया, नई दिल्ली" परिसर में जहांँ

 विदेश एवं संसदीय कार्य राज्य मंत्री भारत सरकार श्री वी . मुरली धरण जी के मुख्य आतिथ्य में

आदरणीय" दिविक रमेश जी" हिंदी विद्वान की गरिमामय उपस्थिति में

और राष्ट्रीय बाल अधिकार संरक्षण आयोग के अध्यक्ष "श्री प्रियंक कानूनगो और सदस्य सचिव सुश्री रूपाली बनर्जी सिंह" के सानिध्य में मुझे (अनुपमा श्रीवास्तव अनुश्री) को भी आमंत्रित वक्ता के रूप में

 कुछ विचार बिंदु प्रस्तुत करने का अवसर मिला ।

 प्रसंग है हमारी नई पीढ़ी का , जो देश के कर्णधार है और आईना। कल देश का भविष्य इन्हीं आईनों में दिखाई पड़ेगा।

 काल के कपाल पर भारत का भाल चमकाने के लिए यह सभी नन्हें -मुन्ने बच्चे ,नई पीढ़ी के बालक , छात्र-छात्राएंँ संस्कारित होंगे और देश को उसकी गौरवशाली धर्म -संस्कृति के अनुरूप सुंदर सटीक सही दिशा दिशा देंगे।

मगर कैसे ! जब विचार उत्कृष्ट होंगे और कर्म भी उसी अनुरूप होंगे।

 यदि मनुष्य विचार है तो साहित्य संस्कार। अच्छा साहित्य - सद साहित्य बच्चों के अंतरमन में अपनी गौरव शाली सभ्यता- संस्कृति के प्रति सम्मान के बीज डाल सके। अपने परिवार, देश और समाज के प्रति निष्ठा और ईमानदारी की उपज तैयार कर सके। सही मायनों में 'परहित सरिस धर्म नहिं भाई" उक्ति को सिद्ध कर सके। देश भक्ति की मशाल सभी के हृदय में जगा सके तो ऐसा साहित्य हर पत्र-पत्रिकाओं में इन नई पीढ़ी के बालक बालिकाओं से संवाद ही नहीं करेगा ,बल्कि उन्हें मार्गदर्शित करेगा सही जीवन शैली की ओर। इस मार्गदर्शक सदसाहित्य को पढ़ने के लिए और उससे अपने जीवन की सभी समस्याओं को समझने, हल करने, समाधान पाने के लिए तब हर बालक आतुर रहेगा। 

राष्ट्र निष्ठा का यह मंत्र अगर बाल साहित्य दे रहा है, बाल मनोविज्ञान को समझते हुए ज्ञान वर्धन और मनोरंजन के साथ, तो इस दौर में तो ऐसे बाल साहित्य की महती आवश्यकता है, जहांँ काफी हद तक निराशा ,अवसाद ,भटकाव , बिखराव के सूत्र समाज में दिखाई पड़ रहे हैं । खासतौर से बालक दिग्भ्रमित हैं। उन्हें सही मार्ग दिखाने का कार्य बाल साहित्य करेगा इसीलिए साहित्यिक पत्र-पत्रिकाओं में बाल साहित्य का होना बहुत जरूरी है, लेकिन देखा यह भी जाता है कि बाल साहित्य वही घिसी - पिटी लकीरों पर, आलू -भालू ,कचालू, हाथी- घोड़ा- पालकी तक ही अटका है जबकि आज के दौर का बच्चा कहां से कहां पहुंच चुका है मेरी पंक्तियां हैं- कि "नन्हा समझकर हमें कमजोर न समझना, जब हम गैजेट्स चलाते हैं तो अच्छे अच्छों को भी नानी याद आती है " आज के दौर के बच्चों के मनोविज्ञान को समझते हुए उनकी जिज्ञासा उनकी प्रकृति और प्रवृत्ति को ध्यान में रखते हुए वैज्ञानिक दृष्टिकोण अपनाते हुए जो साहित्य लिखा जाएगा वह भारत में ही नहीं बल्कि विदेशों में भी लोकप्रिय होगा और उसको अनुवादित किया जाना चाहिए।

बाल साहित्य हाशिए पर नहीं ,बल्कि साहित्यिक पत्र-पत्रिकाओं में केंद्र पर होना आवश्यक है क्योंकि सभी बड़े साहित्यकारों ने बाल साहित्य पर कलम चलाई है अपना धर्म और अपना फर्ज निभाते हुए। उनके भावों में कहीं वह एक दूरदर्शिता और नई पीढ़ी का उज्जवल भविष्य था, जिसे साहित्य के रूप में पथ प्रदर्शक की आवश्यकता है।बाल गतिविधियांँ, बाल साहित्य हमेशा साहित्यिक पत्र-पत्रिकाओं में प्रमुखता से प्रकाशित किया जाना चाहिए, ताकि हम बड़े अपनी यह गर्व से कह सकें कि हमने नई पीढ़ी के प्रति अपने भूमिका का निर्वहन किया है, नई पीढ़ी को साहित्य सौंपते हुए और उन्हें संस्कारित करते हुए, क्योंकि भौतिक सुख -सुविधाओं और भोग विलास की वस्तुएंँ देने से कई गुना बेहतर है कि "हम विरासत में इन बच्चों को उत्कृष्ट साहित्य प्रदान कर जाएंँ।"

नीति - नियमों द्वारा यह अनिवार्य कर दिया जाए कि हर पत्र-पत्रिका में तीन से चार पृष्ठ बाल साहित्य व बाल गतिविधियों , बाल जिज्ञासाओं से जुड़े हुए होने चाहिए।

एक और बिंदु है अनुवादित, आयातित, अनुदित साहित्य। चूँकि भाषा संस्कृति की संवाहक है । जिस देश की भाषा में साहित्य लिखा जाता है, वह अनुवादित होकर आता है हमारे समक्ष, तो अपनी संस्कृति को भी साथ ले आत

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts