"प्यार का खेल"'s image
258K

"प्यार का खेल"

"प्यार का खेल"

सृष्टि रचयिता खेल रचा जो
जिसको खेल गर तुम जाओगे
स्नेह प्रीति लगाव अनुरक्ति भक्ति 
और प्रभु आस्था भी पा जाओगे

गर ह्रदय से खेलोगे इस खेल को
विजयी दोनो ही  कहलायेंगे
किया छल अगर किसी ने तो
हार तुम दोनों ही तब जाओगे

अंतिम पड़ाव तक जब जाओगे
आत्म स्नेह भर तुम तब लाओगे<
Read More! Earn More! Learn More!