प्रभु प्रेम's image
246K

प्रभु प्रेम

बैठ अकेले अंतर्मन मे हिय 

क्यो निषदिन सोचे जाय 


बिन सींचे सिंच रही जो 

वो प्रतिदिन बढती जाय 

प्रेम बेल वट वृक्ष बनी 

हिये हजारो चित्र सजाय 


वार - वार यूँ तोड़ रहा मैं 

फिर-फिर ज़ड़ चेतन हो जाय 

प्रभु का मोहक रुप भला  

छल ह्रदय को

Tag: poetry और1 अन्य
Read More! Earn More! Learn More!