क्या क्यों कैसे जैसे ?'s image
Love PoetryPoetry1 min read

क्या क्यों कैसे जैसे ?

ashish.kumarmomashish.kumarmom October 15, 2021
Share1 Bookmarks 233211 Reads3 Likes

क्या क्यों कैसे जैसे ?


कुछ घटनाएं जीवन में

ऐसी घटित हो जाती हैं।

क्या क्यों कैसे जैसे प्रश्न-

चिन्ह खड़े कर जाती हैं।।


देखी न सुनी होती कभी

जस रहस्य रह जाती हैं।

 प्रथम प्रश्न मन में आता

 क्या में हम खो जाते हैं।।


 क्या अद्भुत लीला जो थीं

 हम कभी समझ न पाते हैं।

 करते कोशिश क्यों ढूंढने की

  पर उलझे ही रह जाते हैं।।


 क्यों का उत्तर पा न पाते

 तब प्रभु आस लगाते हैं।

 हम क्या

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts