हाँ मैं विधवा हूँ's image
79K

हाँ मैं विधवा हूँ

दर्द लिखूँ या लिखूँ मैं अपनी हालात

बेचैनी लिखूँ या लिखूँ मैं वो कसक

आँखों के काले आँसूं बहे थे

जब तुम मुझे छोड़ गए थे

हाँ तुम्हारे नाम का काजल लगाया था

वो बह गए थे तुम्हारे जाने की खबर से काँच की चुड़ियाँ जो पहनी थी

वो तोड़ दी गई थी

हकीकत में मुझे काँच की

तरह तोड़ दिया गया था

तेरे जाते ही

जलते दीये को राम जी ने बुझा दिया था

मेरा सुहाग उजाड़ दिया था

विधवा नाम मुझको दिया गया माँग से सिंदूर पोछ दिया गया

जो तेरे नाम के नाम मैं

लगाया करती थी

मैं रोती नहीं क्योंकि

आँसू तो सूख गए मेरे

तुम मुझसे रूठे थे

या किस्मत मेरी फूटी थी

पता नहीं

पता तो बस इतना है

जीवन मेरा बस अब अकेला है

जीवन साथी ने

साथ सदा के लिए छोड़ा है दो चिड़ियाँ दिखाई थी तुमनें

और कहा था यह हम दोनों हैं

पर देखो ना वो दोनो तो आज भी साथ है

पर तुम क्यों नहीं हो मेरे साथ

कहाँ उड़ गए तुम?

मेरी नींद तुम उड़ा ले गए

जब से तुम सदा के लिए सोए आज भी मुझे याद है

जब से सुहागन हुई थी मैं

कहते थे लोग

निखर गई हूँ मैं

पर तुम्हारे जाते ही

बिखर गई हूँ मैं छन-छन पायल की आवाज से

घर गूंजा करते थे

अब मेरी चीखों की आवाज से

मेरा मन गूंजा करता है

तुम्हारी जान थी ना मैं

आज बेजान हो गई हूँ मैं तुम्हारा होना

और तुम्हारा होने में होना

बस दिल को तसल्ली देने वाला है विधवा हूँ मैं

तिरस्कार की घूंट पीती हूँ मैं

श्रंगार के नाम पर सिहर जाती हूँ मैं

सहारा नहीं मिलता बस सलाह ही मिलती है

अछुत सा व्यवहार होता है

शुभ कर्मों से हटाया जाता है

विधवा कह कर बुलाया जाता है कोई झांकने तक नहीं आता है

ना दवा देता है ना देता है जहर

बस ताने ही मिलें हैं

बस तड़पता छोड़ जाता है

तेरे जाते ही घर का चुल्हा बुझ गया था

पर ह्रदय में आग लग गई थी

कहते हैं लोग

मैं तुम्हें खा

Tag: pain और5 अन्य
Read More! Earn More! Learn More!