बदलाब's image
Share0 Bookmarks 63146 Reads0 Likes


बदलाब,

वक्त की गुजारिश

सब बदला; तारीखे, दिन ,महीने , साल

कच्ची उम्र में देखे जो,

बढ़ती उम्र के साथ वो सपने बदले

कुछ अपने बदले

कुछ पराये अपनों में बदले

देखे हमने बदलते किरदार

बदला गलियो , चौबारो का हाल

तकनीके बदली बदला तरीका - ए- इजहार !

जो छूटा पीछे , शायद ज्यादा गहरा और सच्चा था

वो चिट्ठी , तारो के जमाने वाला प्यार

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts