इश्क़ का इज़हार's image
Poetry1 min read

इश्क़ का इज़हार

Ankith MishraAnkith Mishra January 18, 2023
Share0 Bookmarks 17541 Reads9 Likes
वो ग़मगीन स्र्ख़ के 
साथ कही, अंकित! 
करते हो इश्क़ मुझसे?
मैं निःशब्द था!
शब्दहीन। 
हृदय की गति बढ़ गए,
मेरे अल्फाज़ बिखर गए!!
कैसे समेट सकू अल्फाजों को?
कैसे करू मैं व्यक्त? 
अक्लहीन। 
राह देखती रही वो,
मैं उन जवाब के राह में,
अनभिज्ञ विस्मृत हो गया।


काश! 
निहारती वो कशिश 
मेरी आंखों की,
शायद मेरी वे-पनाह
इश्क़ को बूझ पाती।
न उनकी नज़रे उठी
नाहि मैं व्यक
Send Gift

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts