ख़त's image
Share0 Bookmarks 63481 Reads0 Likes
खत पढ़ने का शौक़ था न तुम्हें 
तो लो लिख दी हैं मैने अपनी सारी खामोशियाँ 
और दे दिया है इनको तुम्हारा पता 

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts