स्त्री's image
Share0 Bookmarks 59273 Reads3 Likes
खुद बंजर काटों पे चले है,
न जाने कितने फूलों को सिंच खिलाये वो।
खुद का गला सुख रहा है,
पर सबके प्यास बुझाये वो।
चेहरे प

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts