आओ नफ़रत की ये बिजलियाँ छोड़े's image
80K

आओ नफ़रत की ये बिजलियाँ छोड़े

आओ नफ़रतों की ये बिजलियाँ छोडें

फूल मुरझा रहे हैं कुछ तितलियाँ छोडें।


जहाँ दिल-ओ-दिमागों में है खौलता ज़हर

चुपचाप हम ,वो लोग, वो बस्तियाँ छोडें।


भगवान की संतान हो भगवान की खातिर

इंसानियत के आगे अपनी मनमार्जियां छोडें।


इस नये ज़माने से यही दरख्वास्त करता हूँ

भविष्य

Read More! Earn More! Learn More!