मानसिक रोग़'s image
75K

मानसिक रोग़

अक्सर मैंने देखा उसको खुद से हीं बातें करते

कभी-कभी बिना कारण हीं खुद में हंसते खुद में रोते

कई दफा तो काटी उसने रातें यूं हीं जाग जाग के 

कभी किसी पर अटक गई जो पलकें उसकी बिना झपके 

           

           बैठे-बैठे खो जाती है वो अपनी अंजानी दुनिया में 

           कितने भाव उभर आते हैं उसकी थकीं आँख की डिबिया में 

           कोई उसको ताड़ रहा है, क्युं ऐसा उसको लगता है           

कानों में कुछ बोल गया क्या, जब कोई निकट से जाता है 

           

                       अपनी हीं परछाई उसको किसी और की आभा लगती है 

                 &

Read More! Earn More! Learn More!