मैं रोना चाहता हूँ's image
Poetry3 min read

मैं रोना चाहता हूँ

Aman SinhaAman Sinha February 28, 2023
Share0 Bookmarks 47505 Reads0 Likes

मैं रोना चाहता हूँ

बस एक बार रोना चाहता हूँ

अपने आँखों को आँसुओं से

खूब भींगोना चाहता हूँ

बस एक बार रोना चाहता हूँ


पता नहीं कब क्यूँ और कैसे

आँसू मेरे सुख गए

दर्द मिला है इतना के अब

दर्द के नाले सुख गए

बस रोकर उनको फिर से मैं

गीला करना चाहता हूँ

बस एक बार रोना चाहता हूँ


याद पड़ा जब छोटा था

बात-बात पर रोता था

थक जाता जब रो-रो कर

माँ के गोद में सोता था

फिर एक बार मैं

उस गोद में सोना चाहता हूँ

बस एक बार रोना चाहता हूँ


किंतु अब मुझको माँ का दर्द भी

जरा भी विचलित नहीं करता

चाहे ज़ोर लगा लूँ जितना

मन भारी नहीं होता

चोट लगाकर खुद को फिर

मैं मन भारी करना चाहता हूँ

बस एक बार रोना चाहता हूँ


मैंने देखा हैं माँ को रोते

बड़े भाई की अर्थी पर

बाप वहीं पर बिलख रहा था

मझले भाई की छाती पर

लेकिन मेरा दिल ना पिघला

मैं उसको पिघलाना चाहता हूँ

बस एक बार रोना चाहता हूँ


लगा मुझे मैं रो दूंगा

पर आँसू ना आए मुझे

बहनो का विलाप भी देखो

मुरझा नहीं पाए मुझे

उन बहनो का दु:ख

मिलकर बाटना चाहता हू

बस एक बार रोना चाहता हूँ


जब मेरा दिल टूटा था

प्यार मेरा जब छूटा था

तब भी मेरी आँख भरी ना

एक बूंद भी ना फूटा था

मैं उस दर्द को खुद में

महसूस करना चाहता हूँ

बस एक बार रोना चाहता हूँ


जब यारों ने छोड़ दिया

अपनी राहों को मोड़

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts