जी चाहता है's image
Poetry2 min read

जी चाहता है

Aman SinhaAman Sinha April 30, 2022
Share0 Bookmarks 63814 Reads0 Likes

है फूलों सी खुशबू तेरे इस बदन में

जी चाहता है मैं साँसों में भर लूँ

अधूरा रहेगा ये इकरार मेरा

पहलू में अपने जो तुझको ना भर लूँ


हंसी से तेरी खिल जाती है कलियाँ

जगमग सी हो जाती है तेरे आने से दुनिया

है किसने मिलाया नशा इस समा में

कदम लड़खड़ाते है देख कर तेरी गालियां


मैं ज़िंदा हूँ साँसे लिए जा रहा हूँ

यौवन को तेरी पीए जा रहा हूँ

सरकने ना देना तू सीने से आँचल

ख्वाहिश मनचलों सी किये जा रहा हूँ

तेरी हर हया को बस मैं जानता हूँ

तेरी हर अदा को मैं पहचानता हूँ

छुपा के जो रक्खा है दिल तुने अपना

वो मेरा ही हक़ है ये मैं मानता हूँ


बातों में अपनी तू उलझा के रख ले

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts