हम तुम तो ऐसे ना थे's image
81K

हम तुम तो ऐसे ना थे

वही दिन है वही रातें जैसे वर्षों पहले थे

पर अब जैसे तुम मिले हो पहले तो ऐसे ना थे

अब भी पुरानी तसवीरों में ऐसी है मुस्कान तेरी

जैसे कोई बांध के रख दे नज़रों से जुबान मेरी 


सन्दुक में रखे कपड़े तेरे नए आज भी लगते हैं

तेरी यादों की खुशबू से महके-महके से रहते हैं

हंसी पुरानी गयी कहाँ अब तेरे कपड़े तो ऐसे ना थे

पर अब जैसे तुम मिले हो पहले तो ऐसे ना थे

 

बातें करने का वो लहजा क्यों बदला सा दिखता है

अल्हड़ सी तेरी चाल में अब क्यों कोई अकड़ सा दिखता है

सूरत तेरी पहले जैसी पर भोलापन अब रहा नहीं

सीरत में भी सादापन अब पहले जैसा मिला नहीं

 

Read More! Earn More! Learn More!