बेबसी's image
Share0 Bookmarks 58491 Reads0 Likes

दिलबर है ना तो कोई रहबर है

हाल-ऐ-दिल सुनाए तो किसको

मिले हमसा हमको इस जहां में

खोल के ये दि ल दि खाए उसिको


फासले दरम्यान है हम दोनों के लेकि न

कदम न चले तो मिटेंगे वो कैसे

उन रेलों की पटरी को देखा है मैंने

मिलते नहीं पर संग चलते है जैसे


जो हम न रहे तो रोओगे तुम भी

दि ल से हमे तुम भुलाओगे कैसे

बदन पे तुम्हा रे जो लि ख गया है

मेरा नाम अब तुम मिटाओगे कैसे


है सपना अगर ये तो सोने हो दोना

अगर जग गया मैं तो पाओगे तुम क्या?

है नुक्सान तेरा भी मेरे तरह ही

भला सोए रहने में नुक्सान है क्या?


No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts