बरसाती नदी's image
Poetry1 min read

बरसाती नदी

Alok AnantAlok Anant January 22, 2023
Share0 Bookmarks 58268 Reads1 Likes
हे बरसाती नदियां ,
हे बलखाती नदियां ,
क्यों तुम हर साल में ?
केवल कुछ एक महीनो
के लिए ही आती हो,
क्यों नही तुम भी 
गंगा के तरह 
सभी के पाप धो पाती हो ?
क्यों तुम कुछ दिनों में ही ,
सभी को प्यासी कर जाती हो?
क्यों तुम चंद मौसमों
पर निर्भर हो ?
क्यों तुम बेटी के पीहर में
आने&nbs

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts