लौटना's image
Share0 Bookmarks 79286 Reads1 Likes

लौटना वहां

जहां लौटने की कोई संभावना न हो।

पहुंचना वहां

जहां पहुचने की कोई चाह न बची हो ।

पाना उसे ,सहसा

जिसे खोने के बाद,

कभी पाने की कोई आस न बची हो।

कह देना ,सहसा उनसे अचानक,

वो सब कुछ

जिनसे कहने का साहस न बचा हो।

पूरी हों जाएं वो प्रतीक्षाएं ,

जिनके पूरे होने की कोई आशा न बची हो।

बस ऐसी ही

अप्रत्याशित घटनाओं के

घटित होने की आस में

पूरा जीवन बीतता जाता है ।

जो बीता हुआ है लौटकर आयेगा

जो खोया हुआ है मिल जायेगा ।

जो बिखरा हुआ है उसे समेट लेगे

जो बिगड़ा है उसे संवार लेगें ।

जो अस्तव्यस्त है उसे निखार लेगें।

कल के लिये बटोरते हैं,

कल के लिए सहेजते हैं ,

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts