अनुत्तरित प्रश्न's image
92K

अनुत्तरित प्रश्न

उतारकर सब छद्म आवरण

मैं था सम्मुख तुम्हारे

पता नहीं देने की कुछ थी अभिलाषा

या याचक बन कर कुछ पाने को खड़ा था ।

अंतर्मन के सुनकर स्वर चुने पथ मैंने

किया जो करना था

कहा जो कहना था

कुछ प्र

Read More! Earn More! Learn More!