अम्मा की स्मृति's image
120K

अम्मा की स्मृति

तुम्हें असमय खोने का दुख

तुमसे अंतिम बार न मिल पाने का दुख

तुम्हारे अंतिम दर्शन न कर पाने का दुख

बहुत कुछ जो किया जाना था

वो न कर पाने का दुख

बहुत कुछ अनकहा न कह पाने का दुख

बहुत कुछ जो कह दिया वो कहने का दुख

तुम्हारे अंतिम दिनों के अकेलेपन के दुख

जो बांट न पाया।

पर साथ हैं

बचपन की न जाने कितनी ही सुखद स्मृतियां

वो सहज ,सरल प्यार तुम्हारा

Read More! Earn More! Learn More!