हर एक ठिकाना तो घर नहीं होता's image
110K

हर एक ठिकाना तो घर नहीं होता



रहते है वहाँ अर्से से, पर छोड़ देने का भी डर नहीं होता

कि हर एक ठिकाना तो घर नहीं होता


किस्मत को बदलना होगा, कि हम बदल गए हैं

पहले जो हो जाता था, अब हमसे वो सब्र नहीं होता

<

Read More! Earn More! Learn More!