हर एहसास पर भले ऊँचे मोल रखना''s image
84K

हर एहसास पर भले ऊँचे मोल रखना'



हर एहसास पर भले ऊँचे मोल रखना

पर हँसो तो दिल खोल कर हँसना

क्यूंकि मेरी साहूकारी तो बस

इतना गणित समझती है

कि जिंदगी उन्हीं की लंबी है

जिनकी हँसी सस्ती है


और ये दुनिया ना , एक झील है,

और इसमे तैरती अपनी कागज की कश्ती हैं

तो जब नाव तुम्हारी हिचकोले खाए ,

और तुम्हें कभी रोना आए

तो रो देना दिल खोल कर

जता देना सब दर्द बोल कर

Read More! Earn More! Learn More!