माँ, अब जल्दी ठीक नहीं होते's image
Poetry1 min read

माँ, अब जल्दी ठीक नहीं होते

Akshita goyalAkshita goyal March 4, 2023
Share0 Bookmarks 63273 Reads0 Likes



बुखार आज है, तो परसों तक रहता है

गला खराब है, तो खराब ही रहता है

दो दिन का ज़ुकाम दस दिन रहता है

सिरदर्द अपने आप कम नहीं होता

कुछ काम करने का मन नहीं होता

दवाई का पत्ता वैसे का वैसा पड़ा रहता है

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts