कृत्रिम बुद्धिमत्ता's image
Share0 Bookmarks 60954 Reads2 Likes

चहूं  ओर चर्चा जोर है
कृत्रिम बुद्धिमत्ता का शोर है
मेरे उद्वेलित मन ने पूछा
क्या ये भावों का चोर है


थोड़ा असहज हुआ मैं
पर सोचना तो पड़ता है
मन के इस असमंजस को
उत्तर देना तो बनता हैं


किया निर्माण हमने इसका
जटिल प्रश्न सुलझाने को
यन्त्र- बुद्धि के संयोग से
सरल मार्ग तलाशने को


सफल हम हुए तनिक
और विकास अभी जारी है
पर ध्यान रहे सदैव सखे
इसका चरित्र दो धारी है


विकास और विनाश

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts